Follow by Email

Sunday, 18 May 2014

RISHTEY

Rishte libaas nahi ho sakte woh toh baste hai dilo me 
jo jism pe sajte hai woh rishte nahi hotey 

Rishte toh ban jate hain pal do pal mein bas
har lamha jeete hain yeh ,par,  ta umra hamare saath

rishta panaptaa hai diloin mein diloin ke beech 
ik baar jud gaya toh phir toda nahi jaataa.

kayee bar yu bhi hota hai jhatak deta hai koyee hath,
par dor nahi tootati hai yadon ki kabhi bhi.

bandh jaati hai jab dor koyee beech diloin ke ,
toh faasle meelon ke matlab nahi rakhte.
chaaho shayad na tum kisi rishte ko nibhana
par yaad ban ke woh tumhe dhoondh hi lega.
            
              *******     *******    ******

 har umra saath laati hai naye rishte tere paas
 par saath nahi chhodta kal jo guzar gaya
 preet ki reet hoti hai kuchh aisee
 ik khasiyat de deti hai har beete hue pal ko

insaniyat , -- haiwaniyat juda ho jate hain yahin pe 
insaan nibhata hai jab toote huye rishte.

rishte hain bante aasuon se ,khoon se,
ye pani pe likhayee nahi jo lahrein mita dein.

paidaayish se maut tak rahta hai inka saath
phir baad mein bhi yadein bhigo jaati hai aankhein.

          ******       *********         ********

kabhi maan ,kabhi pita, kabh,bhai ,kabhi bahan
kabhi dost ,kabhi saathi ,kabhi humsafar haseen.
kabhi rahte hain tere sang kabhi bichhad jaate hai raah mein
par yaadein sab ki rahti hain sadaa saath hamare.

rishton ko sambhalo mat tootne doh inhe ,
kahi aisa na ho tarasnaa  pade  phir  saath ko inke .



रिश्ते लिबास नहीं हो सकते वो तो बस्ते  है दिलो में 
जो जिस्म पे सजते है वह रिश्ते नहीं होते 

रिश्ते तो बन जाते है पल दो पल में बस 
हर लम्हा जीते हैं ये ,पर , ता--उम्र हमारे साथ I
रिश्ता पनपता है दिलों में , दिलों के बीच 
इक बार जुड़ गया तो तोडा नहीं जाता I 

कई बार यु भी होता है झटक देता है कोई हाथ 
पर डोर नहीं टूटती है यादों की कभी भी I 

बंध जाती है जो डोर कोई बीच दिलों के 
तो फासले मीलों के मतलब नहीं रखते 
चाहो शायद न तुम किसी रिश्ते को निभाना 
पर याद बन के वोः तुम्हे दूंढ ही लेगा II 

                     ******* 
हर उम्र साथ लाती है नए रिश्ते तेरे पास् 
पर साथ नहीं छोड़ता कल जो गुजर गया I 

प्रीत की रीत होती है कुछ ऐसी 
इक खासियत दे देती है हर बीते हुए पल को I 

इंसानियत , हैवानियत जुदा हो जाते हैं यही पे 
इंसान निभाता है जब टूटे हुए रिश्ते II 

रिश्ते हैं बनते आसुओं , से खून से 
ये पानी पे लिखाई नहीं जो लहरें मिटा दें  

पैदाईश से मौत तक रहता है इनका साथ 
फिर बाद में भी यादें भिगो जाती है आंखे II 

                   ******** 
कभी माँ ,कभी पिता ,कभी भाई कभी बहन 
कभी दोस्त ,कभी साथी कभी हमसफ़र हसीन 

कभी रहते है तेरे संग कभी बिछड़ जाते है राह में 
पर यादें सब की रहती हैं सदा साथ हमारे II 

रिश्तों को संभालो मत टूटने दो इन्हें 
कही ऐसा न हो तरसना पड़े फिर साथ को इनके 
                            ************

No comments:

Post a Comment