Follow by Email

Saturday, 20 July 2013

Kashti---a poem in hindi

 क्यों लोग कश्ती को बनाते है जीवन का प्रतीक ?
शायद इसलिए क्योकि 
संसार रुपी इस अथाह सागर में 
मनुष्य इक अदना सा लाचार प्राणी है .
जो ये समझता है ,
जिसे ये मालूम है 
की वो निरीह, विवश और अज्ञानी है .
 
उसे इस बात की है पूरी खबर. 

जैसे जैसे सागर में उठती है लहरे 
वैसे वैसे  हिचकोले 
खाती  है कश्ती 
कभी शांत 
कभी नटखट 
कभी भीषण और वीभत्स.
 
 
उसके जीवन की डोर 
है 
कैसी  विवश .
 
 
लेकिन फिर भी 
हर आदमी 
देखता है सपने. 
पूरा करने उन्हें 
 हौसले भी है रखता  .
शायद यही है वो जज्बा 
जिसे  हमें गया है नवाज़ा .
यही है वो  ताकत 
जो हमें
थमा देती है पतवार .
और हम बन जाते है
अपनी कश्ती के खेवनहार .
 
 
पर हर पल, 
हर क्षण ,
आशंकाओ से है घिरे रहते .
आदम को दिए 
श्राप के बोझ को  
रहते है सहते .

यही है जीवन के सफ़र के कहानी 
कभी कश्ती डोले ,
कभी  डूब  जाये 
कभी शांत समुंदर में 
झूम के लहराए .

 


kyu log kashti ko banate hai jeevan ka prateek?

shayad isliye kyo ki 
sansar roopi is  athah sagar mey
manushya ek adna sa lachar prani hai 
jo ye samajhta hai
jise ye maloom hai 

ki woh vivash aur agyani hai 

usey is baat ki hai poori khabar 
jaise jaise sagar mey uththi hai lahre 
waise waise hichkole khati hai kashti
kabhi shant 
kabhi natkhat 
kabhi bhishan aur vibhats

uske jeevan ki dor 
hai kaisee vivash

lekin phir bhi har admi dekhta hai sapne 
poora karne unhe 
hausle bhi hai rakhta
shayad yahi hai woh jazba
jis se hamey gaya hai nawaza 
yahi hai woh takat
jo hamey thama deti hai patwar 
aur ham ban jatey hai apni kashti ke khewanhaar

par har pal har kshan 
ashankao se hai ghirey rahte 
adam ko  diye shrap
ke bojh ko  rahte hai sahte 

yahi hai jeevan ke safar ki kahani
kabhi kasti dole 
kabhi doob jaye 
kabhi shant sagar me jhoom ke lahraye






4 comments:

  1. Replies
    1. thankyou so much Arumugam ji for the visit and the appreciation.

      Delete
  2. I loved the last four lines .
    Turning philosophical Rajni?
    Lots of love!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Indu ji

      if you loved the last 4 lines them they must be the best :))

      thanks a lot once again

      love rajni

      Delete