Follow by Email

Tuesday, 2 October 2012

bas tum sirf tum



picture from the net



आज जब पूछा किसी ने
कौन है तुम्हारा प्रेरणा स्रोत ?
तो  सोचने पर विवश हो गयी

सच तो है
कौन है मेरा प्रेरणा स्रोत ?
कौन है जिसके सानिध्य में
मिलती है मुझे उर्जा !!
मिलती है मेरे जीवन को गति ?
कौन है जिसके आने से
अति है मेरे जीवन में ख़ुशी ?

कौन है ?

कौन है जिसकी आँखों में झांकती हूँ
मै  चाहतें ले कर
कौन है ?
जीती हूँ जिसकी मुस्कुराहटो  के लिए ?

विचारो में खो कर बंद  जो की मैंने पलके
कुछ पल के लिए नज़र आया बस
चेहरा हर बार  तेरा प्रीतम मेरे

यद् आयी वर्षो पुराणी वो घडिया
मतलबी अपनों और परायों की भीढ़ में खड़ी
मई अकेली सी थी
और असहाए सी  भी
जीवन के उन कठिन क्षणों में
सब से परे दो आँखें संवेदना से भरी
जैसे कह रही थी
आगे बढ़ो छू लो मुझे
मै  तुम्हारा हूँ
और तुम मेरी

उस एक पल की हकीकत है ये
जिन्दा हूँ आज  बस तेरे दम से
मेरे जीवन की हर ख़ुशी आर गम
बाटा है मैंने तुझसे मेरे हमदम
बस चा हा  है
सराहा है
पूजा है तुम्हे
प्रभु वंदना की है
तब पाया है तुम्हे

तुम्ही हो मेरे सरताज
तुम्ही हो साथी मेरे
तुम्ही मेरे प्रेरणा स्त्रोत
तुम्ही हो मेरे सखा






aaj jab poochha kisi ne
"kaun hai tumhara
prerna strote?"
tau sochne par vivash ho gayee.

sach to hai
kaun hai mera prerna strote!!
kaaun hai jiske sanidhya mey
milti hai mujhe  oorja !!
milti hai mere jeevan ko gati ??
kaun hai jisske
aane se
aati hai mere jeevan me khushi?

kaun hai ?
jiski aankho mein jhakti hoon
mai chaahatein  lekar  
kaun hai ?
jeeti hoon jisiki muskurahato  ke liye?"

vicharo me khokar
band jo ki maine palkein,
 kuchh pal ke liye
nazar aya bas
chehra har baar tera
preetam merey.

yad aayee varsho purani wo ghadiya
matlabi apno aur parayo ki bheed me khadi
mai akeli si thi aur asahay  si bhi
jeevan ke un kathin kshano mey
sab se parey
do aankhe samvedna se bhari
jaise kah rahi thi
aage badho
chhoo lo mujhe
mai tumhara hoon
aur tum meri

us ek pal ki
 haqeeqat hai ye
jinda hoon aaj bas terey dum se
merey jeevan ki har khushi har gam
baataa  hai maine tumse merey humdum

bas chaha hai
saraha hai
pooja hai tumhe
"Prabhu Vandana ki hai "
Tab paya hai tumhe
tumhi ho merey sartaj
tumhi ho sathi merey
tumhi merey prerna strote
tumhi
ho merey sakhaa.


4 comments:

  1. nice poem rajni.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thankyou so much Indu ji for appreciating.

      thankyou for the visits and the encouragement
      regards
      rajni

      Delete
  2. Kya baat !!!
    bahut badhiya !!!
    ye kavita mere liye prernasrot ban gayi hai !!
    bahut hi shandaar abhivyakti !!!

    Happy Blogging !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ankit ji

      bahut bahut dhanyawad.

      please do keep visiting my blogs and giving me your feedback--its a lot of encouragement

      thanks once again
      regards
      rajni

      Delete