Follow by Email

Tuesday, 9 October 2012

pyar ki kahani

all pictures from the net

 
रेगिस्तान में घर था                   
पत्थरों की थी    ज़मीन
काटों  का जिस्म था
पर नाज़ुक था दिल

मुसाफिर एक गुज़रा
बन के हवा का झोंका
मुहब्बत की  दस्तक पर
काटों का जिस्म सिहरा

इश्क और मुश्क
छुपाये नहीं हैं छुपते
काटों में फूल बन कर
खिल उठते हैं रिश्ते

आशिक की दस्तक ने   
जज्बातों को झकझोरा
काटों में खिला फूल  
आशिक को ढूँढने   निकला  

जब बीत गए दिन कुछ 
नज़रों ने सुकून पाया 
खुदा को अपने देख 
फूल झूम के लहराया

पावों में बांध घुंघरू
थिरकने लगी वो हरदम
ऐसा लगा की जैसे
साँसों ने जान पाई
 
दिन बीतने लगे
हीरे के बन के जैसे
रातें भी बन के चांदी
लेने लगी अंगड़ाई

साथ लगा बढने
वक़्त थम गया था 
खुशियों  से भरा जीवन 
इक संग गुज़र गया था 

अब वो खड़ी अकेले 
याद कर रही है
गुज़रे हुए दिनों को 
और मुस्कुरा रही है 
खुशिया है अभी बाकी 
है साथ दोनों अब भी 
प्यार तब बहुत था 
है उतना ही प्यार अब भी  

4 comments:

  1. There is emotion that tug your heart, Rajni. I think I have read this one before, not sure though :)

    Loved your DP. love these flowers ~

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks ghazala

      and am glad you liked the flowers---white flowers are my favourite.:))

      Delete
  2. Replies
    1. Thankyou so much Amit ji for appreciaiting

      regards
      rajni

      Delete