Follow by Email

Wednesday, 25 April 2012

atithee tum kab jaoge

एक हास्य कविता
आओ सुनाये मित्रो तुम्हे
इक अपनी राम कहानी
ऐसा अतिथी आया घर में जिसने
हमें पिलाया पानी
प्रथम पुरुष में लिख रहे है
 जो जो हम पे गुजरी थी
अन्य पुरुष न समझा पायेगा
कैसी हालत अपनी थी

अतिथि जब तुम आए थे
तब हम कितना मुस्काए थे

पहले तुम आए
हम मुस्काए
तुम लगने लगे हम सब को प्यारे
और रहने लगे तुम दिल में हमारे
फिर तुम आए
हाथो में मिठाई का डिब्बा उठाये
मुह कराया मीठा हमारा
तबादला हो गया था हमारे शहर में तुम्हारा
एक मित्र सच्चा आया हमारा अपने शहर में
भीग गयी पलकें और प्रेम से ओत प्रोत हुआ दिल हमारा तुम्हारे प्रेम में

दो हफ्ते बीते
तुम आए आँखों में भाव ले कुछ रीते रीते
जब चाए का प्याला तुम्हे  हमने थमाया
चेहरादेख तुम्हारा हमारा दिल भर आया
पुछा तुमसे क्या हुआ क्यों उदास लग रहे है
? तुमने कहा क्या बताएं परेशानी में घिर गए हैं
- हमने कहा कैसी है परेशानी कहिये हमसे
-शायद कोई हल निकाल सके हम मिलजुल के
मकान नहीं ढूंढ पा रहे हैं हम मन माफिक
कहा आपने /p>
हंस पड़े ठाहाक लगाकर हम
यह कैसी है परेशानी यह कैसा है गम
रह तो रहे है आप घर में हमारे
आराम से ढूँढिये मकान
आप है हमको अति प्यारे
ओ अतिथी हमारे
पर उस दिन से जो शुरू हो गयी व्यथा हमारी
कैसे मार ली हमने अपने ही पाओ पर कुल्हाड़ी
आपकी पत्नी बिरहन हो गयी
आपके याद में बेगम आपकी बेदम हो गयी
बुलाना पड़ेगा उन्हें आपको अपने पास
मजबूर हुए आप
और हमसे लगा बैठे आस
कड़वा घुट पी कर हमने हामी भर दी
पहले आपकी बेगम
फिर बच्चे
फिर तोते की पिटारी भी
आपके भाई ने हमारे पास रवाना कर दी
आपकी बेगम को आपसे कितना है प्यार
हमारी ही रसोई से हमारी ही पत्नी को कर दिया उन्होंने तड़ी पार
अब खाना तो आपकी पसंद का बनता है
राशन और इंधन लेकिन हमारे खाते से चलता है
बच्चे भी आपके हर फन में माहिर है सर्कार
बेटा हमारा एहसासे कमतरी का हो बैठा है शिकार
अब बच गए है हम
ढूढ़ देते है मकान तुम्हारे लिए
वरना तुमको तो घर मिल गया है
हमें ही न बहार निकल दो अतिथी समझ के

आज हम है खुश बहुत
मकान एक तुम्हारी पसंद का मिल गया है हमें
पेशगी भी दे आये है
कही देर न हो जाये
अपने ही घर में रहने का मौका कही हम  फिर न चूक जाये
कल मागवा देंगे एक भाड़े का वाहन
सामान भी तुम्हारा सहेज समेत देरहे है हमही
  हे अतिथि गण
अब इतना बतला दो
वो कल का शुभ महूरत
जब तुम अपने नए घर में गृह प्रवेश का जश्न मनाओगे
बोलो हे अतिथी तुम कब जाओगे




aao sunaye mitro tumko
ham ik apni ram kahani
aisa atithi aya ghar mein
jisne hame pilaya paani

pratham purush mein
likh rahe hai
jo jo  ham pe gujri thhi
anya purush na samjhaa payega
kaisee halat apni thhi.


"Atithi jab tum aye thhe
tab hum kitna muskaye thhe

Pahle tum aye
hum muskaye
tum lagne lage hum sab ko pyare
aur rahne lage  dil mein tum  hamare

Phir tum aaye
hatho mein mithayee ka dibba uthaye
muh karaya  meetha hamara
tabadla ho gaya thha hamare shahar mein tumhara
ek mitra sachcha aa gaya  apne shahar mein hamara
bheeg gayee aankhe  aur prem se ot prot ho utha  dil hamara

Do hafte beete
tum aye aakho mein le bhav kuchh reete reete
jab chaaye ka pyala tumhe thamaya
chehra dekh tumhara,
bhar aya dil hamara.
poochchaa tumse ---kya hua kyo udas lag rahe hain ?
tum ne kaha ---kya batayein, pareshani mein ghir gaye hain
kaisee hai pareshani
kahiye hamse
shayad koyee hal nikal sakey ham miljul ke.

makaan nahi dhoondh pa rahe hai
hum man mafik
kahaa aapne
huns padey thhahaka laga  kar hum
ye kaisee pareshani ye kaisa gam
rah toh rahe hain ghar mein aap hamarey
araam sey dhoondiye makaan
aap hain humko ati pyare
o atithee hamare.

par us din se jo shuru ho gayee vyathaa hamari
kaise maar li hamne apne hi paawon par kulhadi ??

AApki patni-birhan ho gayee
aapki yaad mein Begum aapki Bedum ho gayee.
bulana padega unhe apko apne paas
majboor hue aap
aur hamse lagaa baithe aas

kadwa ghoont pee kar hamne haan kardi
pahle aapki begum
phir bachche
phir   totey ki pitari bhi
aapke bhai ne hamare paas ravaana  kar di .

aapki begum ko aapse kitna hai pyar
hamari hi rasoyee se hamari patni ko kar diya unhone
badar paar.
ab khana aapki pasand ka banta hai
rashan aur indhan hamarey khaate se chalta hai

bachche bhi aapke har fun( talent) mei mahir hi sarkar
hamara beta ---ahsaase kamtari ---ka ho baitha hai shikar.
ab bach gaye hai hum
dhoondh dete hai makaan tumhare liye
varna tumko toh ghar mil gaya hai
hamey hi na bahar nikal do
tum dhakke de de .

Aaj hum hai khush bahut
makaan ek tumhari pasand ka mil gaya hamey
peshgi bhi de aye hai
kahi der na ho jaye
apne hi ghar mein rahne ka mauka kahi  hum phir na chook jayein

kal mangwa denge ek bhaade ka waahan
saman tumhjara bhi sahej samet de rahe hai
  hum hey atithee gan

ab itna batla do
woh kal ka samay
jab tum apney  naye ghar me grih pravesh
ka jashn manaoge
bolo
hey atithee
TUM KAB JAOGE

No comments:

Post a Comment